Ganpati Stotram in Hindi / गणपति स्तोत्राम् हिंदी में।

Ganpati Stotram in Hindi

ॐ प्रणम्य सिरसा देवं गौरी पुत्रं विनायकम्।
भक्तावासं स्मरेन्नित्यं आयुः कामार्थ सिद्धये॥ (1)

प्रथमं वक्रतुण्डं च एकदन्तं द्वितीयकम्।
तृतीयं कृष्ण पिङ्गाक्षं गजवक्त्रं चतुर्थकम्॥ (2)

लम्बोदरं पञ्चमं च षष्ठं विकटमेव च।
सप्तमं विघ्नराजं च धूम्रवर्णं तथाष्टकम्॥ (3)

नवमं भालचंद्रं च दशमं तु विनायकम्।
एकादशं गणपतिं द्वादशं तु गजाननम्!! (4)

द्वादशैतानि नामानि त्रि संध्यं यः पठेन्नरः।
न च विघ्न भयं तस्य सर्व सिद्धि करिं प्रभो!! (5)

विद्यार्थी लभते विद्यां धनार्थी लभते धनम्।
पुत्रार्थी लभते पुत्रां मोक्षार्थी लभते गतिम्॥ (6)

जपेत् गणपति स्तोत्रं षड्भिर्मासैः फलं लभेत्,
संवत्सरेण सिद्धिं च लभते नाथ्र संशयः!! (7)

अष्टभ्यो ब्राह्मणेभ्यश् च लिखित्वा यः समर्पयेत्
तस्य विद्या भवेत्सर्वा गणेशस्य प्रसादतः!! (8)

Ganapati Stotram in English

Om Pranamya Sirasa devam Gauri Puthram Vinayakam
Bhaktavasam Smarennithyam Ayuh Kamartha Siddaye ! (1)

Prathamam Vakrathundam cha Ekadantham Dvithiyakam
Thrithiyam Krishna Pingaaksham Gajavakthram Chathurthakam (2)

Lambodaram Panchamam cha Shashtam Vikatameva cha
Saptamam Vighna Rajam cha Dhoomravarnam thathashtakam (3)

Navamam Bhala Chandram cha Dasamam tu Vinayakam
Ekadasam Ganapathim Dwadasam thu Gajananam !! (4)

Dwadasaithani Namaani Thri Sandhyam Yah Pathennarah
Na cha Vighna Bhayam thasya Sarva Siddhi karim Prabho! (5)

Vidyarthi Labhate Vidyam Dhanarthi Labhate Dhanam
Puthrarthi Labhate Putraam Mokshaarthi Labhate Gatim (6)

Japet Ganapti Stotram Shadbhirmaasai Phalam Labheth,
Samvatsarena Siddhim cha Labhate Naathra Samsayaha ! (7)

Ashtabhyo Brahmanebhyash cha Likhitwa yah Samarpayeth
Thasya Vidya bhavetsarva Ganeshasya Prasadathaha !! (8)

Meaning of Ganapati Stotram

I bow down to Lord Vinayaka, the son of Gauri, who is adorned with devotion by his devotees, and who grants longevity and fulfils desires. (1)

First, I meditate upon the one with a twisted trunk, the second, the one with a single tusk,The third, the one with a dark complexion and reddish-brown eyes, and the fourth, the one with an elephant face. (2)

Fifth, I meditate upon the pot-bellied one, sixth, the monstrous one, Seventh, the remover of obstacles, and eighth, the one with a smoke-coloured complexion. (3)

Ninth, I meditate upon the moon on his forehead, and tenth, the Lord Vinayaka, Eleventh, the Lord of all Ganas, and twelfth, the elephant-faced one. (4)

Those who recite these twelve names three times a day during the three twilight periods, They will not face any obstacles, and Lord Ganapati will bestow all success upon them. (5)

The seeker of knowledge attains knowledge, the seeker of wealth attains wealth, The seeker of offspring attains children, and the seeker of liberation attains salvation. (6)

By chanting the Ganapati Stotram for six months, one attains the desired results, And within a year, without a doubt, one attains perfection. (7)

If one writes and offers this Stotram to eight Brahmins, They will receive all knowledge through the grace of Lord Ganesh. (8)

Benefits of Ganapati Stotram

The Ganapati Stotram carries several benefits for those who recite it with devotion and sincerity. Some of the benefits associated with chanting the Ganapati Stotram are:

Removal of Obstacles: Lord Ganapati, also known as the remover of obstacles, helps in overcoming various challenges and hindrances in life. By reciting the Ganapati Stotram, one can seek his blessings to remove obstacles and attain success in endeavours.

Blessings of Wisdom and Knowledge: Chanting the Ganapati Stotram is believed to bestow the seeker with knowledge, wisdom, and intellectual capabilities. It helps in improving concentration, memory, and overall intellectual growth.

Fulfillment of Desires: Lord Ganapati is known as the granter of wishes. By reciting the Ganapati Stotram with devotion, one can seek the fulfillment of their desires and aspirations in life.

Longevity and Well-being: The Ganapati Stotram is said to invoke the blessings of Lord Ganapati for longevity and good health. It promotes overall well-being and protects against illnesses and ailments.

Inner Transformation: Chanting the Ganapati Stotram with sincerity helps in purifying the mind and awakening spiritual consciousness. It brings about inner transformation, fostering virtues like humility, devotion, and gratitude.

Protection and Divine Grace: The recitation of the Ganapati Stotram invokes the divine protection and grace of Lord Ganapati. It safeguards the individual from negative influences, evil energies, and calamities.

Spiritual Growth and Liberation: By regularly reciting the Ganapati Stotram, one can progress on the spiritual path. It aids in spiritual growth, self-realization, and ultimately leads to liberation (moksha).

It is important to note that the true benefits of the Ganapati Stotram are experienced when it is chanted with faith, devotion, and a pure heart. The Stotram serves as a means to connect with Lord Ganapati and seek his divine blessings in various aspects of life.

गणपति स्तोत्र (Ganapati Stotram) के लाभ –

गणपति स्तोत्र का पाठ करने के कई लाभ मान्यताओं से जुड़े हैं जो भक्ति और समर्पण के साथ इसे जपते हैं। गणपति स्तोत्र के जप से संबंधित कुछ लाभ हैं:

१. बाधाओं का निवारण: भगवान गणपति, जो बाधाओं को दूर करने वाले के रूप में जाने जाते हैं, जीवन में विभिन्न चुनौतियों और रुकावटों को पार करने में मदद करते हैं। गणपति स्तोत्र का पाठ करके, व्यक्ति उनकी कृपा का आशीर्वाद प्राप्त कर सफलता को प्राप्त कर सकता है।

२. ज्ञान और विज्ञान का आशीर्वाद: गणपति स्तोत्र का जाप करने से ज्ञान, बुद्धि और बौद्धिक क्षमताओं की प्राप्ति होती है। यह ध्यान, स्मरण शक्ति और सामग्री के संग्रह में सुधार करने में मदद करता है।

३. इच्छाओं की पूर्ति: गणपति भगवान, इच्छाओं को पूरा करने वाले के रूप में जाने जाते हैं। गणपति स्तोत्र का जाप करके, व्यक्ति अपनी इच्छाओं और आकांक्षाओं की प्राप्ति के लिए उनकी कृपा की विनती कर सकता है।

४. दीर्घायु और सुख: गणपति स्तोत्र का पाठ करने से जीवन की लंबाई और अच्छी स्वास्थ्य की प्राप्ति होती है। यह सामान्य कल्याण को बढ़ावा देता है और बीमारियों और अस्वास्थ्य के खिलाफ संरक्षण प्रदान करता है।

५. आंतरिक परिवर्तन: गणपति स्तोत्र का आदान-प्रदान भक्ति और समर्पण के साथ स्वच्छ मन के साथ में किया जाता है। इससे मनःशुद्धि होती है, और अपाराध और कृतघ्नता जैसी बुराइयों का नाश होता है।

६. संरक्षण और दिव्य कृपा: गणपति स्तोत्र का जप करने से भगवान गणपति की दिव्य संरक्षण और कृपा प्राप्त होती है। यह व्यक्ति को नकारात्मक प्रभावों, शैतानी ऊर्जाओं और आपदाओं से संरक्षण प्रदान करता है।

७. आध्यात्मिक विकास और मुक्ति: गणपति स्तोत्र का नियमित जप करने से व्यक्ति आध्यात्मिक मार्ग पर प्रगति करता है। इससे आध्यात्मिक विकास, स्वयंसिद्धि और अंत में मोक्ष प्राप्ति होती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि गणपति स्तोत्र के वास्तविक लाभ तभी महसूस होते हैं जब इसे श्रद्धा, भक्ति और एक शुद्ध हृदय के साथ जपा जाता है। स्तोत्र भगवान गणपति से जुड़ने और जीवन के विभिन्न पहलुओं में उनकी दिव्य कृपा की मांग करने के लिए एक साधन के रूप में कार्य करता है।

Why to recite Ganapati Stotram

Reciting the Ganapati Stotram holds significance and benefits for several reasons:

Seeking Blessings and Guidance: By reciting the Ganapati Stotram, one can seek the blessings and guidance of Lord Ganapati, the remover of obstacles. It is a way to establish a connection with the divine and invoke his presence in one’s life.

Removal of Obstacles: Lord Ganapati is known as Vighnaharta, the remover of obstacles. By reciting the Ganapati Stotram, one can seek his intervention in removing hurdles and challenges that may be blocking their path to success and happiness.

Enhancing Wisdom and Knowledge: Lord Ganapati is associated with wisdom and intellect. Chanting the Ganapati Stotram can help improve one’s intellectual abilities, enhance concentration, and deepen understanding. It is especially beneficial for students and seekers of knowledge.

Invoking Divine Protection: The recitation of the Ganapati Stotram invokes the divine presence of Lord Ganapati, who is believed to provide protection against negative energies, evil influences, and unforeseen difficulties. It instills a sense of security and peace.

Cultivating Devotion and Spiritual Connection: By reciting the Ganapati Stotram with devotion and sincerity, one can deepen their spiritual connection with Lord Ganapati. It helps in developing a sense of devotion, gratitude, and surrender to the divine.

Fulfillment of Desires: Lord Ganapati is revered as the fulfiller of desires. Through the Ganapati Stotram, one can offer their heartfelt prayers and seek the fulfillment of their wishes, whether they are material, emotional, or spiritual in nature.

Inner Transformation and Personal Growth: The Ganapati Stotram acts as a spiritual practice that promotes inner transformation. It helps in cultivating virtues like humility, patience, and resilience. Regular recitation can lead to personal growth, self-awareness, and spiritual evolution.

Overall Well-being and Happiness: Reciting the Ganapati Stotram is believed to bring blessings for overall well-being and happiness in life. It helps in creating positive vibrations, harmonizing the mind, and attracting auspiciousness.

Ultimately, the Ganapati Stotram is recited as an act of devotion, surrender, and seeking divine grace. It is a way to connect with the divine energy of Lord Ganapati and invoke his blessings for a smooth and successful journey in life.

गणपति स्तोत्र का पाठ करने का कारण कई कारणों से महत्वपूर्ण है:

आशीर्वाद और मार्गदर्शन की मांग: गणपति स्तोत्र का पाठ करके, व्यक्ति भगवान गणपति के आशीर्वाद और मार्गदर्शन की मांग कर सकता है, जो कि बाधाओं को हटाने वाले हैं। यह एक तरीका है दिव्यता के साथ संपर्क स्थापित करने का और अपने जीवन में उनकी मौजूदगी को आह्वान करने का।

बाधाओं का निवारण: गणपति भगवान को विघ्नहर्ता, बाधाओं को हटाने वाले के रूप में जाना जाता है। गणपति स्तोत्र का पाठ करके, व्यक्ति अपने सफलता और खुशहाली के मार्ग में रुकावटें और चुनौतियों को हटाने के लिए उनकी मदद की मांग कर सकता है।

ज्ञान और ज्ञान की बढ़ावा: गणपति भगवान ज्ञान और बुद्धि से जुड़े हैं। गणपति स्तोत्र का जप करने से व्यक्ति के बौद्धिक क्षमता में सुधार होता है, ध्यान बढ़ता है और समझ गहरी होती है। यह विशेष रूप से छात्रों और ज्ञान की तलाश करने वालों के लिए फायदेमंद है।

दिव्य संरक्षण को आह्वान करना: गणपति स्तोत्र का पाठ करने से भगवान गणपति की दिव्य मौजूदगी को आह्वान किया जाता है, जो नकारात्मक ऊर्जाओं, शैतानी प्रभावों और अनपेक्षित कठिनाइयों से संरक्षण प्रदान करने में मदद करती है। इससे व्यक्ति को सुरक्षा और शांति का अनुभव होता है।

भक्ति और आध्यात्मिक संबंध का विकास: गणपति स्तोत्र को भक्ति और ईमानदारी के साथ पवित्र मन के साथ पाठ करने से आध्यात्मिक संबंध में गहराहट आती है। यह बदलाव, कृतघ्नता और बुराईयों जैसी गुणवत्ताओं का नाश करने में मदद करता है।

सुरक्षा और दिव्य कृपा: गणपति स्तोत्र का जाप करने से भगवान गणपति की दिव्य संरक्षण और कृपा प्राप्त होती है। यह व्यक्ति को नकारात्मक प्रभावों, शैतानी ऊर्जाओं और आपदाओं से संरक्षण प्रदान करता है।

आध्यात्मिक विकास और मुक्ति: नियमित गणपति स्तोत्र का जप करने से व्यक्ति आध्यात्मिक विकास, स्वयं-जागरण और मुक्ति की ओर प्रगामी होता है। इससे व्यक्ति में वृद्धि होती है, स्वयं-ज्ञान का अनुभव होता है और आध्यात्मिक प्रगति होती है।

समग्र कल्याण और सुख: गणपति स्तोत्र का पाठ करने से समग्र कल्याण और सुख के लिए आशीर्वाद मिलता है। यह पॉजिटिव ध्वनियों को बनाए रखने, मन को समान करने और शुभता को आकर्षित करने में मदद करता है।

अंततः, गणपति स्तोत्र को एक भक्ति, समर्पण और दिव्य कृपा की मांग के रूप में पाठ किया जाता है। यह भगवान गणपति की दिव्य ऊर्जा से जुड़ने और जीवन में सुखद और सफल यात्रा के लिए उनकी कृपा को आह्वान करने का एक तरीका है।

When to say Ganapati Stotram

The Ganapati Stotram can be recited at any time according to one’s convenience and personal preference. However, there are certain auspicious occasions and timings when it is considered particularly beneficial to chant the Ganapati Stotram:

Mornings: Starting your day by reciting the Ganapati Stotram can invoke Lord Ganapati’s blessings and set a positive tone for the rest of the day.

Prayers and Pujas: The Ganapati Stotram is often included in prayers and pujas dedicated to Lord Ganapati. It can be recited as a part of daily worship or during special occasions like Ganesh Chaturthi, Vinayaka Chaturthi, or other Ganapati festivals.

Before New Beginnings: Before embarking on a new project, venture, or journey, reciting the Ganapati Stotram can seek Lord Ganapati’s blessings for success, removal of obstacles, and a smooth start.

Exams and Academic Pursuits: Students often chant the Ganapati Stotram before exams, tests, or important academic endeavors to seek Lord Ganapati’s blessings for wisdom, knowledge, and success in their studies.

Obstacle Removal: Whenever faced with obstacles, challenges, or difficulties in life, reciting the Ganapati Stotram can be a way to seek Lord Ganapati’s intervention and assistance in overcoming those hurdles.

Daily Devotion: Many devotees recite the Ganapati Stotram as a part of their daily devotional practices. It can be included in one’s regular prayer routine or as a standalone chanting session to express devotion and seek divine blessings.

Remember, the key is to recite the Ganapati Stotram with devotion, sincerity, and focus. It is not limited to specific times or situations but can be chanted whenever one feels the need for Lord Ganapati’s presence, guidance, and blessings in their life.

गणपति स्तोत्रम कब कहें

यह आपकी सुविधा और व्यक्तिगत पसंद के अनुसार कहा जा सकता है। हालांकि, कुछ शुभ मौकों और समय हैं जब गणपति स्तोत्रम का जप करना विशेष रूप से फायदेमंद माना जाता है:

सुबह: दिन की शुरुआत गणपति स्तोत्रम का पाठ करके करने से भगवान गणपति का आशीर्वाद प्राप्त होता है और दिन की शेष अवधि के लिए एक सकारात्मक माहौल स्थापित होता है।

पूजा और व्रत: गणपति स्तोत्रम को अक्सर पूजा और व्रतों में शामिल किया जाता है जो भगवान गणपति को समर्पित होते हैं। इसे दैनिक पूजा में शामिल किया जा सकता है या गणेश चतुर्थी, विनायक चतुर्थी या अन्य गणपति त्योहारों के दौरान भी जपा जा सकता है।

नए प्रारंभों से पहले: किसी नए परियोजना, उद्यम या यात्रा को शुरू करने से पहले, गणपति स्तोत्रम का जप करने से सफलता, बाधाओं का निवारण और सुगम शुरुआत के लिए भगवान गणपति की कृपा की मांग की जा सकती है।

परीक्षा और शैक्षिक प्रयासों के समय: छात्रों को अक्सर परीक्षाओं, टेस्टों या महत्वपूर्ण शैक्षिक प्रयासों से पहले गणपति स्तोत्रम का जप करना अच्छा माना जाता है। यह छात्रों को ज्ञान, बुद्धि और अध्ययन में सफलता के लिए भगवान गणपति की कृपा की मांग करता है।

बाधा के निवारण: जब भी जीवन में बाधाओं, चुनौतियों या मुश्किलों का सामना करना पड़े, तब गणपति स्तोत्रम का जप करना, भगवान गणपति की मदद और सहायता की मांग करने का एक तरीका हो सकता है।

दैनिक भक्ति: कई भक्त अपने दैनिक भक्ति प्रथाओं का हिस्सा के रूप में गणपति स्तोत्रम का जप करते हैं। इसे अपनी नियमित पूजा विधि में शामिल किया जा सकता है या इसे अकेले जपने के रूप में उपयोग किया जा सकता है जिससे आदर्शता व्यक्त की जा सकती है और दिव्य आशीर्वाद की मांग की जा सकती है।

ध्यान दें, महत्वपूर्ण है कि गणपति स्तोत्रम को भक्ति, ईमानदारी और ध्यान के साथ जपा जाए। यह किसी विशेष समय या स्थिति से सीमित नहीं होता है, बल्कि यह जब भी आपको भगवान गणपति की प्रासाद, मार्गदर्शन और आशीर्वाद की आवश्यकता महसूस होती है, तब आप इसे जप सकते हैं।

Leave a Comment