Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye Lyrics in Hindi / गणपति जी गणेश नु मनाइए के लिरिक्स हिंदी में

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye Lyrics in Hindi

 

गणपति जी गणेश नु मनाइए के लिरिक्स हिंदी में

गणपति जी गणेश नु मनाइए,
सारे काम रास होंगे ।

हर काम नाल पहला ही ध्याइये,
सारे काम रास होंगे ।।

गणपति जी गणेश नु ध्याइये,
सारे काम रास होंगे ।

गौरा माँ दा मान है गणपत,
शिव जी दा वरदान है गणपत ।

पेहला लड्डूवा दा भोग लगाइये,
सारे काम रास होंगे ।।

गणपति जी गणेश नु मनाइए,
सारे काम रास होंगे ।

गणपति वरगा देव ना दूजा,
सबतो पहले होणदि पूजा ।

गजमुख जी गुण सारे गाइये,
सारे काम रास होंगे ।।

गणपति जी गणेश नु मनाइए,
सारे काम रास होंगे ।

चमका मारे सोहणा वेशे,
कुण्डला वाले काले केशे ।

धूल मत्थे नाल चरणा दी लाइये,
सारे काम रास होंगे ।।

गणपति जी गणेश नु मनाइए,
सारे काम रास होंगे ।

गणपति जी गणेश नु मनाइए,
सारे काम रास होंगे ।

हर काम नाल पहला ही ध्याइये,
सारे काम रास होंगे ।।

गणपति जी गणेश नु ध्याइये,
सारे काम रास होंगे ।

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye Lyrics in English

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye,
Sare Kam Ras Honge ।

Har Kam Naal Pahala Hee Dhyaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Dhyaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Gaura Maan Da Maan Hai Ganapat,
Shiv Ji Da Varadaan Hai Ganapat ।

Pehala Laddoova Da Bhog Lagaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Varaga Dev Na Dooja,
Sabato Pahale Honadi Pooja ।

Gajamukh Ji Gun Sare Gaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Chamaka Maare Sohana Veshe,
Kundala Vaale Kaale Keshe ।

Dhool Matthe Naal Charana Dee Laiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Manaiye,
Sare Kam Ras Honge ।

Har Kam Naal Pahala Hee Dhyaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati Ji Ganesh Nu Dhyaiye,
Sare Kam Ras Honge ।।

Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics

Ganpati ji Ganesh nu Manaiye is a popular devotional song dedicated to Lord Ganesha, the beloved deity of Hindus.

This uplifting hymn carries deep spiritual significance and is often chanted during Ganesh Chaturthi, a festival celebrating the birth of Lord Ganesha. Let’s delve into the meaning, benefits, reasons to say it, and the ideal times to chant these powerful lyrics.

Meaning of Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics:

The lyrics of Ganpati ji Ganesh nu Manaiye are an invocation to Lord Ganesha, urging everyone to surrender to His divine presence.

The song emphasizes the importance of seeking Lord Ganesha’s blessings and guidance in all endeavors. It portrays Lord Ganesha as the remover of obstacles, the harbinger of wisdom, and the embodiment of divine energy.

Benefits of chanting Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics:

  1. Obstacle Removal: Chanting these lyrics with sincerity can help remove obstacles and challenges from one’s life. Lord Ganesha is revered as the Vighnaharta, the remover of obstacles, and His grace can clear the path to success and happiness.
  2. Wisdom and Knowledge: By chanting these lyrics, one can invoke the blessings of Lord Ganesha for wisdom, intellect, and knowledge. It is believed that He grants clarity of thought, enhances learning abilities, and blesses devotees with academic and professional success.
  3. Positive Energy: The vibrations generated while chanting these lyrics create a positive atmosphere, filling the surroundings with divine energy. It helps in purifying the mind, uplifting the spirit, and fostering a sense of peace and tranquility.
  4. Protection and Guidance: Lord Ganesha is regarded as the protector and guide. By chanting Ganpati ji Ganesh nu Manaiye, one can seek His divine protection and guidance, ensuring a safe and prosperous journey in life.
  5. Cultivating Devotion: Chanting this devotional song deepens one’s connection with Lord Ganesha. It helps in developing a sense of devotion and surrender, fostering a closer bond with the divine. This devotion brings inner peace and contentment.

Why to say Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics:

  1. Seeking Blessings: Lord Ganesha is known as the deity who bestows blessings and removes obstacles. Chanting these lyrics is a way to seek His divine blessings and invoke His grace in all aspects of life.
  2. Invoking Wisdom: Lord Ganesha is the deity of intellect and knowledge. By chanting these lyrics, one can invoke His blessings to enhance wisdom, intellect, and understanding.
  3. Cultivating Spirituality: Chanting Ganpati ji Ganesh nu Manaiye deepens one’s spiritual connection. It creates a sense of devotion, humility, and reverence towards the divine, leading to spiritual growth and self-realization.
  4. Overcoming Challenges: Life presents various challenges and obstacles. Chanting these lyrics helps in developing mental strength, resilience, and determination to overcome these hurdles, with Lord Ganesha’s divine assistance.
  5. Expressing Gratitude: Chanting these lyrics is a way to express gratitude towards Lord Ganesha for His blessings and guidance. It serves as a reminder to remain grateful for all the opportunities and experiences in life.

When to say Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics:

  1. Ganesh Chaturthi: This auspicious day marks the birth of Lord Ganesha and is the most ideal time to chant these lyrics. Devotees gather in homes and public celebrations to sing praises and invoke Lord Ganesha’s presence.
  2. Morning Ritual: Starting the day with chanting Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics can set a positive and auspicious tone for the entire day. It helps in invoking Lord Ganesha’s blessings and seeking His guidance.
  3. Before Important Tasks: Before undertaking any significant endeavor, such as exams, interviews, or business ventures, chanting these lyrics can help in seeking Lord Ganesha’s blessings for success and removing obstacles.
  4. During Difficult Times: When faced with challenges, chanting these lyrics can provide solace, strength, and clarity of mind. It instills confidence and reminds us that with Lord Ganesha’s grace, we can overcome any obstacle.
  5. Daily Devotional Practice: Including chanting Ganpati ji Ganesh nu Manaiye lyrics in daily devotional practices fosters a consistent connection with Lord Ganesha. It serves as a regular reminder of His divine presence and the qualities He represents.

गणपति जी गणेश नु मनाईए लिरिक्स

“गणपति जी गणेश नु मनाईए” एक प्रसिद्ध भक्तिगीत है जो हिन्दुओं के प्रिय देवता भगवान गणेश को समर्पित है। यह आदर्शवादी गीत गणेश चतुर्थी के दौरान बड़े ही आनंद के साथ गाया जाता है, जो भगवान गणेश के जन्म का त्योहार है।

चलिए इन प्रभावशाली लिरिक्स के अर्थ, लाभ, इसे कहने के कारण और आदर्श समयों के बारे में अधिक जानते हैं।

“गणपति जी गणेश नु मनाईए” लिरिक्स का अर्थ:

“गणपति जी गणेश नु मनाईए” के शब्द भगवान गणेश को ध्यान में लेकर उनकी आराधना करते हुए सबको उनकी दिव्य उपस्थिति में समर्पित होने की पुकार हैं।

यह गीत बड़ी महत्त्वपूर्णता रखता है कि हम सभी को भगवान गणेश की आशीर्वाद और मार्गदर्शन की आवश्यकता होती है।

इस गीत में भगवान गणेश को बाधाओं के नाशक, ज्ञान के प्रेरक और दिव्य ऊर्जा के प्रतिष्ठाता के रूप में चित्रित किया गया है।

“गणपति जी गणेश नु मनाईए” लिरिक्स के लाभ:

  1. बाधाओं का नाश: इन लिरिक्स को निष्ठा के साथ जपने से जीवन से बाधाएं और चुनौतियां हटा दी जा सकती हैं। भगवान गणेश को विघ्नहर्ता के रूप में मान्यता है, और उनकी कृपा से सफलता और सुख का मार्ग स्पष्ट हो जाता है।
  2. ज्ञान और ज्ञान का प्राप्ति: “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप से हम भगवान गणेश की कृपा को आह्वान करके ज्ञान, बुद्धि और ज्ञान की प्राप्ति के लिए उनका आशीर्वाद प्राप्त कर सकते हैं। यह मान्यता है कि वे विचारों की स्पष्टता, सीखने की क्षमता बढ़ाते हैं और भक्तों को शिक्षात्मक और पेशेवर सफलता के साथ आशीर्वाद प्रदान करते हैं।
  3. सकारात्मक ऊर्जा: जब इन लिरिक्स को जपते हैं, तो उत्पन्न होने वाली ध्वनियाँ एक सकारात्मक वातावरण बनाती हैं, जो आसपास को दिव्य ऊर्जा से भर देती हैं। इससे मन की शुद्धता होती है, आध्यात्मिकता और चैन की भावना विकसित होती है।
  4. संरक्षण और मार्गदर्शन: भगवान गणेश को संरक्षक और मार्गदर्शक के रूप में सम्मानित किया जाता है। “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप से हम उनकी दिव्य संरक्षण और मार्गदर्शन की आवश्यकता को मांग सकते हैं, जिससे जीवन में सुरक्षित और समृद्ध मार्ग प्राप्त होता है।
  5. भक्ति का विकास: “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप से भगवान गणेश के साथ आपार आपका संबंध विकसित होता है। यह भक्ति की भावना को विकसित करता है और दिव्य के साथ एक नजदीकी रिश्ता स्थापित करता है। यह भक्ति आंतरिक शांति और संतुष्टि लाती है।

“गणपति जी गणेश नु मनाईए” लिरिक्स कहाँ कहें:

  1. गणेश चतुर्थी: यह पवित्र दिन भगवान गणेश के जन्म को चिह्नित करता है और इसे “गणपति जी गणेश नु मनाईए” का जप करने के लिए सर्वोत्तम समय माना जाता है। भक्त घरों और सार्वजनिक आयोजनों में एकत्र होकर यह गीत गाते हैं और भगवान गणेश की उपस्थिति को पुकारते हैं।
  2. सुबही रिवाज़: दिन की शुरुआत “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप के साथ करना पूरे दिन को सकारात्मक और मांगलिक बना सकता है। इससे भगवान गणेश की कृपा आती है और उनका मार्गदर्शन मिलता है।
  3. महत्वपूर्ण कार्यों से पहले: महत्वपूर्ण कार्यों, जैसे परीक्षा, साक्षात्कार या व्यवसायिक पहल के आगे, “गणपति जी गणेश नु मनाईए” का जप करना सफलता की मांग और बाधाओं को दूर करने के लिए भगवान गणेश की कृपा मांगने में मदद कर सकता है।
  4. कठिन समयों में: चुनौतियों के सामने होने पर, “गणपति जी गणेश नु मनाईए” का जप सांत्वना, शक्ति और मन की स्पष्टता प्रदान कर सकता है। यह विश्वास दिलाता है कि भगवान गणेश की कृपा के साथ हम किसी भी बाधा को पार कर सकते हैं।
  5. दैनिक भक्तिमय अभ्यास: दैनिक भक्तिमय अभ्यास में “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप को शामिल करने से भगवान गणेश के साथ निरंतर संबंध का विकास होता है। इससे उनकी दिव्य उपस्थिति का नियमित याददाश्त होती है और वे द्वारा प्रतिष्ठित गुणों की याद दिलाई जाती है।

इस प्रकार, “गणपति जी गणेश नु मनाईए” लिरिक्स का जप एक सकारात्मक और दैवीय अनुभव प्रदान करता है। यह गीत भगवान गणेश की आराधना, उनकी कृपा की प्रार्थना, और बाधाओं के नाश के लिए एक विशेष साधन है। इसे नियमित रूप से जपकर आप अपने जीवन में आनंद, समृद्धि और सफलता का मार्ग खोल सकते हैं।

गणपति जी गणेश नु मनाईए कहनेका कारण:

  1. बाधाओं का नाश: यह लिरिक्स बाधाओं को नष्ट करने के लिए प्रयासरत है और जीवन में संघर्ष को कम करके सुख और सफलता का मार्ग प्रशस्त करता है।
  2. ज्ञान का प्रेरणा: “गणपति जी गणेश नु मनाईए” के जप से हमें ज्ञान की प्राप्ति के लिए भगवान गणेश का आशीर्वाद प्राप्त होता है। यह हमें बुद्धि, सृजनशीलता और संकल्प की शक्ति देता है।
  3. सकारात्मकता का संचार: यह लिरिक्स हमें सकारात्मकता के साथ जीने का संदेश देता है। इसका जप करने से हमारा मन सकारात्मक विचारों, भावनाओं और क्रियाओं के साथ भर जाता है।
  4. भगवान गणेश की पूजा: यह गीत भगवान गणेश की पूजा का एक विशेष तरीका है। जब हम इसे जपते हैं, तो हम भगवान गणेश की आराधना, स्तुति और उनके साथ संबंध के लिए अपनी भक्ति प्रकट करते हैं।
  5. शुभारंभ के लिए: “गणपति जी गणेश नु मनाईए” का जप एक शुभारंभ के लिए संकेत करता है। इसे जपने से पहले या किसी नए कार्य की शुरुआत में यह हमें सफलता, शुभकामनाएं और आशीर्वाद प्रदान करता है।

इस तरह, “गणपति जी गणेश नु मनाईए” लिरिक्स का जप एक सकारात्मक और उपयोगी व्यायाम है जो हमें बाधाओं को पार करने, ज्ञान प्राप्त करने, सकारात्मकता को बढ़ाने, भगवान गणेश की पूजा करने और शुभारंभ के लिए उपयुक्त है।

Leave a Comment