Free Ganpati Aarti in Hindi PDF / गणपति आरती हिंदी में PDF

Ganpati(Ganesh) Aarti in Hindi PDF
Ganpati aarti in Hindi pdf

गणपति आरती के लिरिक्स हिंदी में

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

एक दंत दयावंत, चार भुजा धारी।
माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी॥

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा॥
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

पान चढ़े फूल चढ़े, और चढ़े मेवा।
लड्डुअन का भोग लगे, संत करें सेवा॥

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया॥

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा॥
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा॥
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा॥

Ganpati Aarti in English

Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

Ek dant dayavant, char bhuja dhari,
Mathe sindoor sohe, mooshak ki sawari.

Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

Paan chadhe, phool chadhe, aur chadhe meva,
Ladduan ka bhog lage, sant kare seva.

Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

Andhan ko ankhein de, kodhin ko kaya,
Baanjhan ko putra de, nirdhan ko maya.

Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

“Sur” Shyam sharan aaye, safal kije seva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

Jai Ganesh, Jai Ganesh, Jai Ganesh Deva,
Mata Jaaki Parvati, Pita Mahadeva.

गणपति आरती क्या होती है?

गणपति आरती एक भक्तिपूर्ण गीत या हिम्न है जो भगवान गणेश (जिन्हें गणपति या गणेशा भी कहा जाता है) को समर्पित होता है। यह आरती समारोह के दौरान प्रदर्शित भक्ति और प्रार्थना का एक रूप है, जिसमें भगवान के प्रति आदर्शों का वर्णन और महिमा किया जाता है। आरती को हिंदू मंदिरों और घरों में आमतौर पर भगवान गणेश की कृपा और उनके प्रतीक्षा के लिए किया जाता है।

गणपति आरती आमतौर पर छंदों और जोड़ीदार वाक्यों से मिलकर बनी होती है जो भगवान गणेश की गुणों, गुणवत्ताओं और कार्यों का वर्णन करती हैं। इसमें गहरी भक्ति, कृतज्ञता और पूजा की भावना व्यक्त की जाती है। आरती के दौरान जले हुए तेल के दीपकों को हिलाकर, घंटों की आवाज़ के साथ और हाथों की ताली बजाकर भक्ति का प्रतीक बनाया जाता है और एक पवित्र वातावरण बनाया जाता है।

विभिन्न भाषाओं में गणपति आरती के कई रूपांतर हैं, जिनमें हिंदी, मराठी और संस्कृत शामिल हैं। गणपति आरती को उत्साह और भक्ति के साथ गाया जाता है, जैसे गणेश चतुर्थी के दौरान, जो भगवान गणेश के लिए समर्पित त्योहार होता है, और जब भगवान गणेश की पूजा होती है। माना जाता है कि गणपति आरती गाने से आनंद, समृद्धि और रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर किया जा सकता है।

What is Ganpati Aarti

Ganpati Aarti is a devotional song or hymn dedicated to Lord Ganesh (also known as Ganpati or Ganesha). It is a form of worship performed during the Aarti ceremony, which involves offering prayers and songs of praise to the deity. The Aarti is usually performed in Hindu temples and households to seek the blessings of Lord Ganesh and to invoke his presence.

The Ganpati Aarti typically consists of verses and choruses that describe the attributes, qualities, and exploits of Lord Ganesh. It expresses deep devotion, gratitude, and reverence towards the deity. The Aarti is accompanied by the waving of lit oil lamps, ringing of bells, and clapping of hands as a symbol of adoration and to create a sacred atmosphere.

There are several versions of the Ganpati Aarti in different languages, including Hindi, Marathi, and Sanskrit. The Aarti is sung with great enthusiasm and devotion during Ganesh Chaturthi, a festival dedicated to Lord Ganesh, as well as on various other occasions when Lord Ganesh is worshipped. It is believed that singing the Ganpati Aarti brings joy, prosperity, and removes obstacles from one’s path.

Meaning of Ganpati Aarti:

Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh Deva.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

You have one tusk, and you possess four arms.
There is vermilion on your forehead, and you ride a mouse.

Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh Deva.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

Pan and flowers are offered to you, along with sweets.
Devotees serve you the offering of laddus.

Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh Deva.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

You give sight to the blind and a body to the disabled.
You grant children to the barren and wealth to the destitute.

Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh Deva.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

Sur (the poet) seeks refuge in you, bestow success upon him.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh, Victory to Lord Ganesh Deva.
Mother Parvati is your mother, and Lord Mahadeva is your father.

Benefits of Ganpati Aarti:

The Ganpati Aarti holds several benefits for devotees. Some of the key benefits include:

Mental clarity and focus: Chanting or singing the Ganpati Aarti helps in calming the mind and focusing one’s thoughts. It aids in clearing mental clutter, promoting concentration, and improving memory.

Removal of obstacles: Lord Ganesh is known as the remover of obstacles and the giver of success. By reciting the Ganpati Aarti, devotees seek His blessings to overcome challenges and hurdles in life, whether they are related to personal, professional, or spiritual aspects.

Invoking positive energy: The rhythmic chanting of the aarti creates a positive and energetic environment. It helps in purifying the surrounding space and attracting positive vibrations. This, in turn, uplifts the mood, instills positivity, and enhances overall well-being.

Strengthening devotion: The Ganpati Aarti is a way to express devotion and reverence towards Lord Ganesh. It deepens the connection with the divine and strengthens one’s faith and spirituality.

Cultivating gratitude: The aarti is a form of gratitude towards Lord Ganesh for His blessings and guidance. By expressing gratitude, devotees develop a sense of appreciation and contentment, which promotes a positive outlook on life.

Ritualistic significance: The Ganpati Aarti is often performed as a part of various religious ceremonies and festivals dedicated to Lord Ganesh. It upholds the rich cultural and traditional heritage associated with the deity and fosters a sense of community and unity among devotees.

It is important to note that while the Ganpati Aarti is considered auspicious and beneficial, its true significance lies in the devotion and sincerity with which it is performed.

गणपति आरती के लाभ:

मानसिक स्पष्टता और ध्यान: गणपति आरती का जाप या गायन मन को शांत करने और ध्यान केंद्रित करने में मदद करता है। इससे मानसिक कलंक मिटता है, ध्यान को बढ़ाता है, और स्मृति में सुधार होता है।

बाधाओं का निवारण: भगवान गणेश को बाधाओं का निवारणकर्ता और सफलता का दाता माना जाता है। गणपति आरती के जाप से, भक्त उनकी कृपा की कामना करते हैं ताकि जीवन में आने वाली चुनौतियों और रुकावटों को पार कर सकें, चाहे वे व्यक्तिगत, पेशेवर या आध्यात्मिक पहलुओं से जुड़े हों।

सकारात्मक ऊर्जा को प्रवर्धित करना: आरती की ध्वनि की गुंजारी और गायन आस-पास की सकारात्मक और ऊर्जावान वातावरण बनाता है। इससे परिवेश को शुद्ध किया जाता है और सकारात्मक तरंगों को आकर्षित किया जाता है। यह मनोभाव को उद्धार करता है, सकारात्मकता को स्थापित करता है, और सामान्य कल्याण को बढ़ाता है।

भक्ति का मजबूत होना: गणपति आरती भगवान गणेश के प्रति भक्ति और सम्मान का एक ढंग है। इससे ईश्वर के साथ गहरा संबंध बनता है और भक्ति और आध्यात्मिकता को मजबूत किया जाता है।

कृतज्ञता को विकसित करना: आरती भगवान गणेश के प्रति कृतज्ञता का एक रूप है। कृतज्ञता के भाव से, भक्त आदर्श को महसूस करते हैं और संतुष्टि की भावना विकसित होती है, जो जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण को प्रोत्साहित करती है।

रीति-रिवाजी महत्त्व: गणपति आरती अक्सर भगवान गणेश के समर्पित विभिन्न धार्मिक आयोजनों और त्योहारों का हिस्सा के रूप में आयोजित की जाती है। यह उन्हें संबंधित देवता के साथ जुड़े सांस्कृतिक और पारंपरिक विरासत को बनाए रखने का कार्य करती है और भक्तों के बीच एकता और समूही भावना को प्रोत्साहित करती है।

इसे ध्यान देना महत्वपूर्ण है कि जबकि गणपति आरती को शुभ और लाभदायक माना जाता है, इसका वास्तविक महत्व उस भक्ति औ

Why say Ganpati aarti?

Ganpati Aarti is recited or sung to offer prayers and devotion to Lord Ganesh, also known as the remover of obstacles and the provider of success and prosperity. There are several reasons why people say Ganpati Aarti:

Invocation and Worship: Ganpati Aarti is a way to invoke Lord Ganesh’s presence and seek his blessings. It is a form of worship to show reverence and gratitude towards him.

Removal of Obstacles: Lord Ganesh is believed to be the remover of obstacles. By saying Ganpati Aarti, devotees seek his blessings to overcome hurdles, challenges, and difficulties in their lives. It is believed that chanting the Aarti with devotion can help in clearing obstacles and bringing success.

Spiritual Connection: Reciting Ganpati Aarti helps in establishing a spiritual connection with Lord Ganesh. It allows devotees to connect with the divine energy and experience a sense of peace, harmony, and inner joy.

Expression of Devotion: Ganpati Aarti is an expression of devotion, love, and reverence towards Lord Ganesh. It is a way for devotees to express their faith, surrender, and dedication to him.

Cultural and Traditional Significance: Ganpati Aarti holds cultural and traditional significance, especially during Ganesh Chaturthi and other festive occasions. It is a part of the rituals and customs associated with the worship of Lord Ganesh.

Overall, saying Ganpati Aarti is a means to connect with the divine, seek blessings, and express devotion towards Lord Ganesh. It brings a sense of spiritual upliftment, inner peace, and harmony in the lives of devotees.

गणपति आरती क्यों कहें?

गणपति आरती को पढ़ा जाता है या गाया जाता है ताकि भगवान गणेश के प्रति प्रार्थना और भक्ति का अदान किया जा सके। इसके पीछे कई कारण हैं, जो निम्नलिखित हैं:

आवाहन और पूजा: गणपति आरती भगवान गणेश की उपस्थिति को बुलाने और उनका आशीर्वाद प्राप्त करने का एक तरीका है। यह उन्हें पूजन का एक रूप है, उनके प्रति सम्मान और कृतज्ञता का प्रदर्शन करने के लिए।

बाधाओं का निवारण: भगवान गणेश को आपदाओं का निवारण करने वाला माना जाता है। गणपति आरती कहने से, भक्त उनकी कृपा की कामना करते हैं ताकि उनके जीवन में आने वाली बाधाओं, परेशानियों और संकटों को पार कर सकें। यह माना जाता है कि आरती का जाप करने से बाधाएं दूर होती हैं और सफलता प्राप्त होती है।

आध्यात्मिक संबंध: गणपति आरती का पाठ करने से आध्यात्मिक संबंध स्थापित होता है। भक्त ईश्वरीय ऊर्जा से जुड़ने का अनुभव करते हैं और आंतरिक शांति, समृद्धि और आनंद की अनुभूति करते हैं।

भक्ति का प्रदर्शन: गणपति आरती भक्ति, प्रेम और सम्मान का प्रदर्शन है भगवान गणेश के प्रति। इसके माध्यम से भक्त अपने श्रद्धा, समर्पण और समर्पितता को प्रकट करते हैं।

सांस्कृतिक और परंपरागत महत्व: गणपति आरती का सांस्कृतिक और परंपरागत महत्व होता है, खासकर गणेश चतुर्थी और अन्य त्योहारों के दौरान। यह भगवान गणेश की पूजा के संबंधित रस्म और परंपराओं का हिस्सा होती है और भक्तों के बीच एकता और समूहिक भावना को प्रोत्साहित करती है।

संपूर्ण रूप से कहें तो, गणपति आरती कहना एक रूप है ईश्वर से जुड़ने, आशीर्वाद प्राप्त करने और भगवान गणेश के प्रति भक्ति का अभिव्यक्ति करने का। यह भक्तों के जीवन में आंतरिक शांति, समृद्धि और समान्यता का अनुभव प्रदान करती है।

When to say Ganpati aarti?

Ganpati Aarti can be recited at various occasions and festivals dedicated to Lord Ganesh. Some common occasions when Ganpati Aarti is said are:

Daily Worship: Many devotees recite Ganpati Aarti as a part of their daily worship routine. It is a way to start the day by seeking blessings and offering prayers to Lord Ganesh.

Ganesh Chaturthi: Ganpati Aarti holds significant importance during the festival of Ganesh Chaturthi. It is a ten-day celebration dedicated to Lord Ganesh, and Aarti is performed multiple times a day during the festival.

Auspicious Beginnings: Ganpati Aarti is often recited at the beginning of new ventures, such as starting a new business, moving into a new home, or beginning a new phase in life. It is believed to invoke Lord Ganesh’s blessings for a successful and prosperous journey.

Temples and Devotional Gatherings: Ganpati Aarti is also chanted in temples and during devotional gatherings dedicated to Lord Ganesh. It is a way for devotees to collectively express their reverence and devotion.

Personal Prayers: Individuals may choose to recite Ganpati Aarti during their personal prayers and meditation sessions to connect with Lord Ganesh and seek his divine guidance, wisdom, and blessings.

It is important to note that Ganpati Aarti can be said at any time and place with devotion and reverence towards Lord Ganesh.

गणपति आरती कब कहें?

गणपति आरती का पाठ विभिन्न अवसरों और गणेश भगवान के समर्पित त्योहारों पर किया जा सकता है। कुछ सामान्य अवसर जब गणपति आरती कही जाती है, वे हैं:

दैनिक पूजा: कई भक्त गणपति आरती को अपनी दैनिक पूजा का हिस्सा बनाते हैं। यह भगवान गणेश की कृपा और आशीर्वाद की प्रार्थना करने का एक तरीका होता है।

गणेश चतुर्थी: गणेश आरती गणेश चतुर्थी के त्योहार के दौरान महत्वपूर्ण मान्यता रखती है। यह दस दिन का उत्सव है जो भगवान गणेश के समर्पित होता है और इसके दौरान आरती कई बार पढ़ी जाती है।

शुभ आरंभ: गणपति आरती को नए उद्यमों की शुरुआत, जैसे नया व्यापार शुरू करना, नए घर में शिफ्ट होना या जीवन के नए अध्याय की शुरुआत करने के समय भी पढ़ा जा सकता है। इससे मान्यता है कि भगवान गणेश की कृपा प्राप्त करने के लिए आरंभिक और समृद्ध यात्रा की आहुति दी जाती है।

मंदिर और भक्तिसंगति: भगवान गणेश के समर्पित मंदिरों और भक्तिसंगतियों में भी गणपति आरती का पाठ किया जाता है। यह भक्तों के द्वारा भक्ति और समर्पण का व्यक्तिगत तरीका है।

व्यक्तिगत प्रार्थना: व्यक्तिगत प्रार्थना और ध्यान सत्रों के दौरान भी कुछ लोग गणपति आरती का पाठ करते हैं ताकि भगवान गणेश से जुड़े और उनकी दिव्य मार्गदर्शन, ज्ञान और आशीर्वाद का आनंद लिया जा सके।

ध्यान देने योग्य है कि गणपति आरती को किसी भी समय और स्थान पर भक्ति और समर्पण के साथ कहा जा सकता है।